वक्री शनि गोचर प्रभाव

वक्री शनि गोचर प्रभाव को लेकर 11 मई 2020। न्यायाधीश अपनी साधारण राशि मकर राशि में ही वक्री होने जा रहे हैं उत्तराशादा नक्षत्र सूर्य के नक्षत्र में। 29 सितंबर 2020 तक के लिए 4 माह 18 दिन तक के लिए। ज्योतिषीय दृष्टिकोण से देखें तो जब भी कोई ग्रह वक्री होता है वह बेहद पावरफुल हो जाता है। अत्यंत बलवान हो जाता है और क्यों हो जाता है? क्योंकि वह अपने स्वरूप के विपरीत काम करता है। वक्त वक्र का साधारण अगर देखा जाए तो होता है टेढ़ा मेरा ज्योतिषशास्त्र में उल्टा उल्टा उल्टा नहीं चल रहा है। अब तुम्हें शास्त्र विज्ञान है। इसके प्रभाव का। पूरा पूरा जो सिद्धांत काम करा है वह कैसे प्रभाव जनमानस पर्दे का सिद्धांत ही काम कर रहा है। दृष्टि दिखाई पड़ने के आधार पर और शनि देव कैसे हैं तो सर्वाधिक पापा ग्रह अब इनका वकृत्व यानी बकरा होना।

अगर होगा तो पावरफुल होगा तो सीधी सी बात है। अपने स्वभाव के विपरीत काम करेगा और 1 दिन का प्रभाव भी शुभत्व की ओर जाएगा। वर्तमान समय में जिस महामारी से जूझ रहे हैं, अगर यही शनिदेव का गोचर होता और महामारी की स्थिति नहीं होती तो परिस्थितियां बहुत अलग होती। बहुत अलग होती कई तरह से समाज को अलग दिशा दे रहे होते। लेकिन आज जब किसी एक ऐसी स्थिति में है, ऐसी स्थिति से जूझ रहे हैं जहां पूरी तरह से अपने घर में बंद गोचर का भी विश्लेषण प्रभावित होगा। शनि देव के प्रभाव पर जो मैं चर्चा लेकर आया हूं, उसमें भी बहुत प्रभाव आपको दिखाई पड़ेगा क्योंकि सामान्य अवस्था में नहीं है। कम से कम चल रही है। इस सदी के लोगों ने कम से कम ऐसी स्थिति नहीं लिखी हो। हम सभी देख रहे हैं। हम सभी इस समय के गवाह हैं।

अब सवाल उठता है कि हम जो पूछ रहे हैं क्या शनिदेव यहां पर कोई अंतर ले आएंगे? 29 सितंबर 4 मई। 18 दिन का जनमानस के जीवन काल में कोई बदलाव होगा।

देखा जाए तो?

मैं हमेशा एक ही बात कहता रहा हूं कि किस रोग से मुक्ति मायने नहीं रखती। आम हम सभी लोगों के पास दो विकल्प हैं। पहला विकल्प यह है कि उसका वैक्सीन तैयार हो जाए और सभी का वेतन कर दिया जाए। लोग से अपने आप को सुरक्षित महसूस करें। हमको Corona के साथ जीना सीख ले। दोनों में से कोई एक चीज होना चाहिए। असल में देखा जाए तो वैक्सिंग तो फिर भी ठीक है, लेकिन एक यह भी विकल्प है जहां हमको रोना की साथ जीना सीख ले। ऐसे बहुत सारे लोग हैं जो एक समय में होंगे और महामारी के रूप में गांव के गांव साफ कर दिया होगा क्योंकि उस समय कितना विकास नहीं था। लोग इतने विकसित विदित है। गांव का गांव धीरे धीरे धीरे लोगों ने अपने आप उपयोग के अनुकूल बना लिया और अब रोग के साथ ही जीने लगे। उदाहरण सर्दी का प्रारंभिक एक-दो दिन जो होता है, प्रारंभ होने से पूर्व और 1 दिन तक भयंकर कष्ट होता है। कोई सामान्य कष्ट नहीं भयंकर कम कष्ट होता है। लेकिन फिर धीरे-धीरे आप उसके साथ सरवाइव कर जाते हैं और वह आपको छोड़कर फिर चला जाता है। वक्त के साथ जीना शुरु कर दिया। 7 दिन 9 दिन अब धीरे-धीरे भी कोई फर्क नहीं पड़ता कि भारत देश सुरक्षित हो गया कि अमेरिका सुरक्षित हो गया कि चाइना सुरक्षित हो गया। रिसर्च कराने का काम करते हैं। शनिदेव और उस पर हर देश में समय जोरों शोरों पर जोर शोर से लगा हुआ है। कई देशों ने यह दावा भी किया कि रखते हमने तैयार कर लिया है। अब सवाल उठता है कि मैंने जब एक पूर्ण परमात्मा ने मीडिया के युद्ध पर बनाया था तो मैंने बात करी थी। देव गुरु बृहस्पति नीच राशि में गोचर कर रहे हैं जिस समय वह वक्री होंगे यानी 14 मई साथ समय आ चुका है। उनके वक्री काल में नीच राशि में वक्री तो जैसे ही उनको हाथी होगा, वह उसके समान खोल देंगे और वह अब तक परिस्थितियों पर नियंत्रण उन्हीं का होगा। सूर्य उच्च राशि में जाएंगे और बहुत बड़े निर्णयों की तरफ सरकार को जो खेलेंगे सरकार ने निर्णय लिया। कहां एक पूछा गया था। हम तीसरे लॉकडाउन से कई सारे बड़े निर्णय लिए गए गंभीर निर्णय लिए गए और अब समय आया जब शनिदेव और देव गुरु बृहस्पति दोनों का वक्री काल होगा और तब आम जनमानस पर और बाकी की पंक्तियों से भी मुक्ति के आसार रास्ते बनेंगे। यह बात सत्य है कि रोना की महामारी ने बहुत कुछ बदल दिया। अब सब कुछ सामान्य हम बहुत तेजी से विकसित कर रहे हैं। बदल जाएंगे। हर परिवेश में अगर सिक्के के दो पहलू होते हैं जहां शनिदेव का पूरा पूरा प्रभाव आम जनमानस पर मजदूर वर्ग पर सेवक वर्ग पर होता है जहां अपने घर को छोड़कर। अपनी खेती छोड़ कर जहां से अच्छा कुछ कर सकते थे, उस को छोड़कर किसी और के हैं। नौकरी करने के नाम पर शहरों में एक अच्छी जिंदगी की तलाश में भागकर गए थे। अब यह लोग लौटे हैं। गांव की महामारी है। यह तो बात अलग है लेकिन नहीं बोलते हैं और एक नई जिंदगी की ओर जाएंगे। यह कुछ नया करने की तरफ जाएंगे और इसमें सहयोग करेंगे। शनिदेव क्योंकि बकरों करके निसंदेह न्याय करेंगे और वह जनता जो गरीब है। मजदूर वर्ग है उनके लिए कहीं न कहीं यह बदलाव की स्थिति उत्पन्न कर आएंगे। वही नौकरी में भी आएगी। नौकरियां जाएंगी। लेकिन मैंने कल कहा था कि टैलेंटेड होंगे उनकी क्योंकि उनको पूछना ही जाएगा। उनकी सैलरी बढ़ाई जाएगी। उन को रखा जाएगा क्योंकि हर कंपनी चाहेगी कि जो काम 10 लोगों से होता था, दो लोग मिलकर के करें। ऑलराउंडर हो और काम करते हैं तो सैलरी का बोझ कम हो जाएगा और मेरे काम के पास कोई टेंशन नहीं है। अपना कुछ करने की तरफ जाएंगे। आवश्यकता आविष्कार की जननी है नया होगा। शनि देव! अवस्था में अपने प्रभाव कैसे देते हैं, इस बात को भी जाना होगा। शनिदेव के पास तीन रखी है, जहां बैठते हैं वहां से तीसरे घर को सातवें और दसवें घर तो अपनी पूर्ण दृष्टि से देखते हैं। अब वक्री ग्रहों का प्रभाव होता है। एक घर पीछे और एक घर आ गए। दोनों घरों को प्रभावित करने लगता है यानी कि प्रथम देश या गोचर में शनि देव के वक्री काल करके कन्या राशि पर राशियों के लिए शनि देव के वक्री काल के प्रभाव को जाना का प्रभाव कैसे देखा जाता है। ज्यादातर लोगों के मन में यह प्रश्न उत्पन्न होता है। ज्यादातर लोग पूछते हैं कि आप किस आधार पर बताते हैं तो फिर से याद रखिए बार-बार बताना बड़ा मुश्किल हो जाता है लेकिन आपके चंद्र घाघरा। सरकार के प्रभाव को जानना है तो कैसे जाने तो उसका एकमात्र रास्ता है क्या? पहले अपनी जन्म कुंडली और जन्म कुंडली में जाकर के उपग्रह को निकाल के बारे में आप सुन रहे हैं, समझ रहे हैं। अगर वह आपकी जन्मकुंडली में बल के साथ ग्रह का गोचर कभी बुरा प्रभाव नहीं देगा। नोट करें, सफल हो जाते हैं। अगर आपकी जन्मकुंडली में चंद्रमा देख रहे हो। सर परेशान होने की नहीं है। टेंशन लेने की आवश्यकता।

इनका चतुर्थ भाव में आएगा आपके लिए क्या फायदा और क्या नुकसान फायदा पी रहे थे क्योंकि आपके लिए सर्वाधिक योगकारक वर्क विद रहा है तो शनिदेव की है। अगर आप के जीवन काल में सबसे ज्यादा कोई बड़ा प्रभाव डालते हैं तो वही डालते हैं जबकि महापुरुषों का निर्माण की तीसरी दृष्टि प्रथम पर गर्म पर और जो भी मेरे काम हो रहे हैं, हर कार्य में दे रहा है। यहां पर बैठकर के जहां जहां बैठे हैं और तीसरी दृष्टि स्थान पर दम पर और लगने पर चंद्र राशि। तो सीधी सी बात अगर आप तुला राशि के हैं तो आपके जीवन काल में कई सारे बदलाव होने जा रहे हैं। जैसे शनिदेव चतुर्थ भाव में बैठ कर के। मांगा जाए आप ने पिछले दिनों कहीं घर इत्यादि में पैसा लगाया था। जमीन इत्यादि में गाड़ी चाबी लेने की इच्छा रख रहे थे। हालांकि वह पिछले दिनों ही आपका पूरा होगा। आपसे ज्यादा कोई विचार नहीं नहीं है। पति जैसे पहले थी वैसी तो पहले भी आपके सारे काम हो रहे थे। दुकान रुके हुए थे, ग्रुप में डालेंगे। इन परेशानियों में धीरे-धीरे अवस्था को नौकरी छोड़नी पड़ती है। चिंता मत करिए आपको दूसरी नौकरी मिल जाए। आप अपने खुद का कोई काम कर ले चाहे जैसे भी हो आपको चिंता की कोई बात करेंगे और इसी प्रकार यदि लंबित होंगे लेकिन सारे के सारे कार्य विलंबित सारे के सारे काम होंगे होने के कारण होने के कारण।

जो भी होने वाली है आपके मन के अनुकूल संतान से संबंधित परेशानी हो। चिंता विद्यार्थियों को लेकर चिंता में भी कहूं तो शनिदेव की शांति प्रक्रिया पर मिलेंगे। जो काम नहीं हुआ तो घबराने की आवश्यकता नहीं वरन आपके लिए फायदा रास्ता। जहां गर्मी से दिल मिलाए हुए हो, वहां हवा का झोंका आ जाए तो एसी का काम करता है तो इसी का काम करने के लिए आ रहे हैं। आप को ठंडक पहुंचाने वाले हनुमान जी के बिना किसी चिंता के हनुमान जी की जितनी अधिक से अधिक हो सके। आराधना करेगा कि सरकार से आपको लाभ मिलेगा। आप सुरक्षित रहेंगे और रोगी तैयारी। आप इस महामारी की चपेट में है। समझ जाएंगे बाहर निकलता की वृश्चिक राशि। 11 मई 2020, 4 माह 18 दिन एक बदलाव से बाहर आ चुके हैं। शनिदेव ने आपको अपने प्रभाव से अवगत कराया होगा और समझा होगा। अब आप से बाहर हैं, आपके लिए फायदेमंद होते हैं। भाइयों को विक्रम भाव में गोचर करेंगे। इन की तीसरी दृष्टि पड़ी की संतान पर भाग्य पर और साथ ही साथ यह कृत्य प्रभावित करेंगे। धन को और साथ ही साथ चतुर्थ को मिलाकर का प्रभाव पराक्रम कराने वाला पराक्रम।

तो अभी तो बहुत तरह की स्थितियां बदलने वाली है जैसा कि मैंने कहा था, उसमें बहुत अलग होने वाली थी। लेकिन अब लगता है आपके जो काम रूके हुए हैं। कई लोगों के घर भाव में धन अभाव के प्रभाव को भी अब बोल देंगे तो कोई भी कुटुंब से संबंधित समस्या है। उसमें भी कोई ना कोई अंतर आएगा। असर आएगा। उसमें भी कुछ अनुचित होगा कि सपोर्ट करने वाला होगा ओवन राहत लेकर के आया।

संतान कोई परेशानी में कमी आएगी। इसके बावजूद बच्चों को चुकी है पर टेक्निकल माध्यम से ऑनलाइन कंप्यूटर के सहयोग से अपनी पढ़ाई को पूरा कर सकेंगे। आपकी शिक्षा में जो भी व्यवधान पूर्व के दिनों में आया, उसमें कहीं ना कहीं कमी आएगी। मजबूरी हो जाती है ताकि सेहत का ख्याल रखेगा। पिता के साथ संबंध। क्या देखा जाए तो उचित डालेंगे आप लोग के लिए मत समझना, क्योंकि आपने जिंदगी निकल जाएगी और भगवान की शरण में आइए। बहुत जरूरी है आपकी आपका झुक गए हैं। धर्म-कर्म के कार्यों पर होना चाहिए। पैसे लोगों की मदद में लगाइए जो जरूरतमंद गरीब मजदूर बताना चाहता हूं कि जन्मकुंडली में चंद्रमा से उनका संबंध नहीं है तो बहुत हद तक आपकी सरकार को अपने बनानी है। क्या अगर कुंडली में शनि देव बकरी है और चंद्रमा से उनका संबंध नहीं तो बहुत अच्छा है। अगर आपकी जन्मकुंडली में चंद्रमा करके आएगा। मानसिक परेशानी होगी। हनुमान जी की आराधना करने बजरंग बाण का पाठ उनको सुनाइए। हनुमान जी कृपा होगी तो ग्राहक और शांति के साथ यह समझ जाएगा वर्तमान समय में। शनि देव! की साढ़ेसाती आप देख रहे हैं।

आपकी कुंडली में शनि देव की कथा में चंद्रमा को देख रहे हैं। क्या चंद्रमा का सीधा संबंध है तो आप जरा शनिदेव का 18 दिन आपके जीवन काल में कुछ बदलाव किए?

भाव में गोचर का शनि देव को यात्री कार्यक्रम नहीं है, परंतु खुद की राशि में याद रखिएगा कि जब भी अपनी खुद की राशि में गोचर कर रहे हैं, पराक्रम इस बंद करके धन भाव में गोचर कर रहे हैं। आपके लिए कहीं न कहीं वह सपोर्टिव वाणी पर आप को कंट्रोल में रखना था। जो भी सोच समझकर बोला था कि सावधानी रखनी थी। मध्य पंचापीता को दूरी बना करके रखना हमसे दूरी बना कर रखना था। मार्ग खोल रहा था। यानी के माध्यम से खुल रहे थे। अब बकरम करके समिति भाव में गोचर कर रहे हैं। सुबह के समय नगर फल देंगे। तीन तरफ से आपको पहले तो लगने पर आकर प्रभाव डालेंगे। पराक्रम पर धन पर उड़ते बादल की टीम द्वितीय पतवा पर स्थान पर 8% लाभ पर पड़े। उचित इलाज पर होने के कारण संदेश को सरकार के दौरान आपके पास लाभ के रास्ते आएंगे। आपके काम बनेंगे।

बिजनेसमैन हैं तो सर आपके लिए फायदा दिलाने वाला है। मिशन देने का मन कर रहा हूं। फायदा आम दिनों का फायदा नहीं है। अलग परिस्थितियां बिल्कुल अलग है। यह बात तो आप जानिए कि फायदा करेंगे। थोड़ा अलग होगा लेकिन फिर भी और शनि देव की दृष्टि पटल पर पड़ेगी तो आकस्मिक धन लाभ की स्थिति दिए बनाएंगे। हलक में तब भी आपको सावधान करना चाहूंगा। चित्रपट एक्सीडेंट से सावधान रहिए जो लोग किसी गंभीर रोग से ग्रसित हैं, उन्हें भी सुरक्षा मिलेगी। अगर आप विशेष करके इस महामारी से जूझ रहे हैं। आपको रास्ता मिलने वाला है। यहां पर शनिदेव चौथे भाव प्रदीप डालेंगे तो हो सकता है। अगर कोई जमीन जायदाद प्रॉपर्टी यह हमारी सेनाओं से पूर्व वह काम आपका बन जाएगा। अगर किसी कागजी कार्रवाई ना फंसे हुए थे तो वह काम आपका बन जाएगा और यहां पर आपके काम बंद करिए। यहां पर आपके काम बनने चाहिए। 

कि मैंने बताया अब शनिदेव इधर तीन भागों को प्रभावित करेंगे तो भर भाव को प्रभावित करेंगे। वाणी ने या वाणी से मैं कहूंगा। वाणी से आपके सारे काम बनेंगे। व्यक्तित्व में भी आपके बताएगी परंतु एक बात का ख्याल रखेगा। यह जो भी सारे काम आपके होंगे, थोड़े विलंब से हैं क्योंकि शनिदेव यहां लगन को भी प्रभावित करेंगे तो होगा क्या यानी चंद्र राशि को तो होगा क्या कि आप की सारी चीजें थोड़ी विलंबित को हो करके रोएगी। हर दिल में थोड़ा देर होगा। लेकिन सब कुछ होगा जैसा कि आप जानते हैं। अब खुद की राशि में बैठे और सुभद्रा के समान फल देंगे तो पराक्रम को बलि कर देने के कारण छोटे भाई बहनों के साथ अगर कोई परेशानी है। वह दूर हो जाएगी। फोटो के साथ संबंध में कोई परेशानी है। वह दूर हो जाएगी। छोटे भाई बहनों से सहयोग मिलेगा और और तू और सबसे ज्यादा बड़ी बात आपके पराक्रम में वृद्धि हो जाएगी। फिर से कहूंगा कि जिस तरह की स्थिति शराब की दुकानों के बाहर दिखाई पड़ रही है। अगर आप धनु राशि के हैं और आप भी लाइन में हैं तो कम से कम इस वह सरकार को। सोचिए सोचिए और बहुत सोचिए शनिदेव बहुत कुछ दे सकते हैं। पीकर ही मरना है तो बात ही अलग है लेकिन कम से कम ऐसी स्थिति है तो अपने आप को बचाए करिए। आपके संदेश अगर आपने अपने आप को बचा लिया तो वह सरकार की बहुत कुछ बदलना है और बहुत कुछ बदलेगा। कुछ नया और कुछ बड़ा करिए। कुछ सोचिए क्योंकि जब आप सोचेंगे आने वाले दिनों में जब परिस्थितियां बदल लेंगे तो चतुर्थ भाव पर यह जो दृष्टि डालकर की चार बार आना जरूरी नहीं है कि 4 में 18 दिन में सब कुछ हो जाए। शनिदेव इतने दिनों के लिए भी आ कर के अगर आप के जीवन काल में कुछ बदलाव करके चले जाएं। आप को बड़ा करने के लिए मजबूर कर दे। कुछ आपको सिखा दें तो याद रखें कि जब यह पहले भी जाएं तो भी आप के जीवन काल में बहुत कुछ बदल जाएगा। बहुत परिस्थिति बदल जाएगी। और आप एक अच्छी जिंदगी देंगे। तुम्हें धनु राशि के जातकों को करना चाहता हूं। यह सरकार आपके लिए बेहद फायदेमंद सिद्ध होने जा रहा है। हां, सोने जा रहा है तैयार रहिए ताकि ताकि कोई आवश्यकता नहीं। हर प्रकार से आपके लिए फायदेमंद हर प्रकार से आपके लिए फायदेमंद है। हनुमान चालीसा हनुमान जी की आराधना करना और हनुमान जी के मंदिर में जाकर के दर्शन करना पीपल वृक्ष की जड़ में जल अर्पित करना। आपके लिए यह सुरक्षा की गारंटी इसी से बन रही थी या खराब कर रहे थे तो ठीक नहीं कर रहे थे तो करिए आप सुरक्षित रहेंगे। बाकी किसी प्रकार की कोई चिंता नहीं करनी मकर राशि आप ही की राशि पर शनि देव। अबे कि अगर आप मकर राशि के हैं तो मैंने साढ़ेसाती का प्रभाव बताया था और मैंने कहा कश्मीर इतना कष्ट नहीं देंगे। निसंदेह इतना कष्ट तो खैर नहीं कहा जाएगा लेकिन गौर करिए इस समय शनि देव कहां गोचर कर रहे हैं? उत्तराषाढ़ा नक्षत्र में ब्रेक और कार्यक्रम को आप लोगों ने देखा होगा और इस बात को जाना होगा कि शनिदेव की साढ़ेसाती का वह समय जब आपके जन्म नक्षत्र पर शनि देव गुर्जर करते हैं। अगर आप उत्तराखंड में मकर राशि के हैं तो यह समय आपके लिए बेहद बेहद सावधानी बरतें बेहद सावधानी भरा था। यानी मानसिक अशांति परेशानी हर कार्य में विलंब होने पर बनता कार्य को अंत में अपनी आंखों से बिगड़ते हुए देखना या अपने क्रेडिट कोई और ले जा रहा था। इस तरह से परेशान ऊपर से नौकरी में अगर हो तो नौकरी छूटने तक की नौबत आने वाली स्थिति। अब क्या कुछ बदलाव निस्संदेह अगर शनिदेव होकर काल में आए हैं तो अपना प्रभाव आपको बढ़िया देंगे। न खराब चार माह 18 दिन कोई बहुत लंबा समय नहीं है और ऐसा भी नहीं कि इससे आपकी पूरी लाइफ बदलने वाली बात पर आपके जीवन पर प्रभाव डाल सकता है। बिगड़ेगा। उसको भी आप बहुत हद तक कंट्रोल कर सकते हैं। कंट्रोल कहां चलेंगे। इतनी देर तो आपकी राखी पर इन की तीसरी दृष्टि पराक्रम पर चप्पल पर कर्म पर प्रभारी बनाएंगे। भागने को धन को और खुद लग्न को प्रभावी बनाने के कारण से अधिक की स्थिति होगी। इधर उधर की चीजों में पैसा व्यर्थ बर्बाद होंगे। लेकिन कहीं ना कहीं अगर देखा जाए तो आप किस को कंट्रोल कर सकते हैं। ग्रुप यहां पर आती है। अगर वह हो ही रहा हो तो अच्छे कार्यों पर करिएगा। बुरे कार्य में बैक करने का अर्थ यह भी होता है। क्या खाने पीने विशेषकर पीने गलत चीज खाने इन चीजों पर व्यर्थ व्यय करने से अच्छा है। कम से कम आज इस परिस्थिति को देखिए और जानिए बेटे की डेट कब निकल जा रहा है, लोगों को पता तक नहीं चलता। कुछ ऐसा करिए जिससे लोग जाने के बाद भी याद रखें तो अच्छे कार्यों में व्यय करिए। उनको अच्छा होगा तो प्रभारी करेंगे। अपने दूसरे घर पर संचयन के रास्ते बन सकते हैं। आप धन का उपयोग अच्छे से कर सकते हैं। तब संपत्ति तैयारी है। उसके विकास के बारे में पूछिए राखी अभी बहुत समय लगेगा। लोगों को एक बार तैयार होने में परिस्थिति वश करने में लेकिन फिर भी सब कुछ एडजस्ट हो सकता। नौकरी पर स्थित होता है नौकरी। बिल्कुल भाई का मकान मिल जाएगा और गोत्र कल आपके काम आ सकता है। विदेश की स्थिति भी बन सकती। मुझे लगता नहीं कि कोई जाना चाहे उत्तर काल में अगर आपका पहले से ही तय था। कई सारे लोग थे जिनका विदेश जाना तय हो चुका था, लेकिन लोगों की वजह से नहीं जा सकता। ना हो जाए। वहां जाकर क्या को नौकरी मिल जाए और विदेश में तो खैर अब क्या नौकरी वहां से लोगों को हटाया जा रहा है। आपके लिए रास्ते बनेंगे। चिंता मत करो, परेशानी है। उसे निराशा मिलेगा लेकिन एक ही शर्त याद रखने पर याद रखना है। होगा वही जो आप चाहते हैं, भक्तों को नहीं। जब आप चाहते नहीं। बीमार बहुत ही होगी। हर चीज के साथ संबंधों में कोई परेशानी थी। कोई दिक्कत थी। वह दूर हो जाएगी पर आपके वृद्धि होगी और जो आज तक आप केवल और केवल नौकरी कर रहे थे। मैं कहूंगा थोड़ा विवेक लगाइए, थोड़ी बुद्धि लगाइए। और अपना खुद का भी कुछ कर सकते हो तो अपने खुद का भी काम करे। नौकरी छोड़कर नहीं। आप मकर राशि के आप क्यों नहीं करते? नौकरी तो आपको करनी होगी। नौकरी करते हुए अगर खुद के व्यापार के बारे में कुछ सोच सकते हैं और उससे जुड़े व्यापारी हैं। उनके लिए सरकार में सब कुछ ठीक होने वाला है। कब मिलेगा, पाटनर सहयोग मिलेगा। व्यापार को आगे बढ़ाएंगे। इसमें परेशानी की कमी आएगी। मिलाकर देखा जाए तो आपके लिए मैंने कहा नौकरी चली गई। अब तो चिंता मत करिएगा। नौकरी आ जाएगी। यहां से गया कहीं और से आएगा। कोई और आप ने प्रश्न किया हो। वहां से यात्रियों का मौका मिल जाएगा और नौकरी नहीं है तो खुद का अपना कुछ कर लीजिए। आपके इस समय पर ई फाइलिंग करना होगा। नौकरी याद रखिएगा। अगर मकर राशि के हैं। नौकरी पूरी तरह मत छोड़िए गा एक नौकरी गई है तो दूसरी नौकरी से अपने खुद का कोई काम करिए। मकर राशि के हैं तो शनिदेव की मध्य भैया जल्दी थी। कष्ट, मानसिक अशांति और उत्तराषाढ़ा नक्षत्र के जितने लोग हैं उनके लिए विशेष रूप से उनके लिए विशेष रूप से मानसिक अशांति परेशानी सरकारी डिलीट काम न बनने दिया। किस तरह की परेशानी दे रहा था। इन सब से बताओ कि आपको हनुमान जी की आराधना मैंने बताई थी। अभी और कहूंगा। हनुमान जी की आराधना करके पीपल में जल अर्पित करिए और हनुमान चालीसा का पाठ के लिए याद रखेगा। 4 माह 18 दिन बहुत कुछ बदल सकता है। अगर आप बदलवाने के पक्ष में है। तू कुंभ राशि साढ़ेसाती की प्रथम भैया आप देख रहे हैं। 11 मई 2020 जान चुके हैं। आप शनिदेव बकरी होने जा रहे हैं। आपके और राशि के स्वामी है। मूलत्रिकोण आर्थिक जाति पर होते हैं और वर्तमान समय में देखा जाए तो आपकी राशि से बारहवें भाव में गोचर कर रहे हैं। मैंने बताया था, कोई कठिनाई नहीं होने वाला है क्योंकि खुद की राशि में जब कोई ग्रह गोचर करता है तो अपनी दूसरी जाति कर देता है। पेपर से प्रभावित करेगा। 3 तृतीय भाव करने का अर्थ था कि कार्य क्षेत्र में लगातार विद नवादा और परेशानियों का नाम में अलग हो जाती हो जाते हैं तो हम करेंगे। आपके व्यक्तित्व को प्रभावित करेंगे और प्यार को भी प्रभावित करेंगे। फलस्वरूप गोचर काल में लाभ के रास्ते आप ढूंढ लेंगे। लाभ के रास्ते आप बनाएंगे उनका इलाज करेंगे।

और वही शनिदेव व्याधि किसी भी स्थिति लाएंगे तो हो सकता है। अब किसी चीज का इलाज करना हो बनाना हो तो क्या की भी स्थिति आने वाली है? अपने रोमिंग का गुर्जर खुदा तो सबसे पहले बेड पर आपको नियंत्रण रखना होगा और वह बिल्कुल सही दिशा में जाए। इस बात का आपको भरपूर ख्याल रखना होगा। लोड करिए कि आप को एक ही बात का ख्याल रखना कि मेरा पैसा कहां जा रहा है। किस दिशा में जा रहा किस्मत में जा रहा है। इसका मैं क्या लिखूं, शाम को प्रभावित करेंगे क्योंकि पीछे और आगे जब भी ग्रह वक्री होता है तो पीछे वाले भाग को भी प्रभावित करता जहां बैठक को प्रभावित करेगा और संजीव के पास तीन दृष्टि भी है। उस हिसाब से देखा जाए तो? रुद्रपुर विभागों और साथ ही साथ भाग्य भाव को भाग्य भाव पर इनकी क्षेत्र की पड़ेगी। सौभाग्य के चलते सारे काम बनेंगे जो काम रुक रहा था। जिस काम में अड़चन आ रही थी। जिस कार्य में परेशानी आ रही थी, काम बनेगा। कुछ सहायता आपको विदेश तक मिल सकता है या नहीं। विदेश से सहयोग मिला लोग विदेश जाने की तैयारी हो। अगर आप जाने की इच्छा रखते हो तो विदेश जाना है या विदेश आप जाएंगे। एक दूसरा भी करते हैं। आपकी फैक्ट्री चलती है तो वहां पर कहीं ना कहीं सहयोग मिलेगा। आपको ऐसे ही जाएंगे। भाग्य के सहयोग से जो आपके काम को थोड़ी मात्रा में काम को ले चलेंगे कि आने वाले दिनों में तो बहुत बड़ी परेशानी आएगी। वर्करों का मिलना थोड़ा मुश्किल होगा तो जीवन है।

नजदीक उठे हैं, इतना आसान तो नहीं आने वाले हैं तो कहीं न कहीं खुद से अपना कुछ कर ही अच्छा है। मैं नहीं समझता कि उनके लिए बुरा है। कहां पर देखे तो मैं आपकी समझता हूं कि भाग्य भाव पर शनि देव की दृष्टि पड़ेगी। भाग्य का प्रयोग इस प्रकार के दौरान पिता से सहयोग डीजे पिता की बातों को मान्य और पिता से राय मशवरा करके कोई फायदा तो घड़ी पुराण इसमें कहीं परेशानी आएगी। उससे आपको जरा विशेष रूप से सावधान रहना होगा। परेशान रूप सामान्यतः बहुत पहले कर चिंता है। अगर आप कोई फैक्ट्री चलाते हैं। बड़ा दुश्मन करते तो चिंता रोग का कारण बनने वाली है और रिपु का भविष्य में रोक की सत्ता की स्थिति उत्पन्न होगी। लेकिन फिर भी मैंने आपके साथ है। चिंता मत करिए क्योंकि पड़ेगी इसी प्रकार से हो आपके पास। आपके सारे काम बनेंगे और सहयोग मिल जाएगा। यानी आपके पूर्व के रखते धन से और धन के चलते काम को प्रभावित कर रहे हैं। आपके व्यक्तित्व को प्रभावित कर रहे हैं और धन को प्रभावित करें तो बनता है। वह पैतृक संपत्ति हो सकता है। उसी को भेज करके आप अपना आगे का काम शुरू करें। जैसे नहीं करें, परंतु काम सारे आपके हो जाएंगे। रुकने वाला कुछ भी नहीं है। क्या सावधानी रखनी है, आपको देखे साढ़ेसाती है और सावधानी तो रखनी ही रखें। अगर कुंडली में चंद्रमा और शनि का संबंध हुआ। तब तुझे गोचर आपको कष्ट में डाल देगा। परेशानी में डाल देगा। निकलना मुश्किल मुश्किल में ऐसा नहीं है। सनी देओल दे रहे हैं और कहीं न कहीं आपको सपोर्ट करेंगे। आपके काम आगे बढ़ेंगे। सहायता को मिलेगी। कब अगर आपकी कुंडली में शनि और हनुमान जी की शरण में आए हनुमान जी की आराधना करें। अब करिएगा 4 माह 18 दिन बहुत बड़ा समय नहीं है लेकिन छोटा भी नहीं है। अगर सब कुछ ठीक रहा तो इस समय काल में बहुत कुछ बदल जाएगा तो गणेश जी की आराधना करते रहेंगे। परेशानियों से बचे रहेंगे जो भी परिस्थिति आएगी और निकल जाए।

मीन राशि 11 मई, 2020 शनि देव वक्री होने जा रहे हैं। अब देखा जाए तो यह पूरी राशि परिवर्तन नहीं कर रहे हैं। जहां है वहीं मकर राशि में ही वक्र होने जा रहे हैं। 4 माह 18 दिन के लिए आपके लिए कार्यक्रम है। ऐसा तो नहीं है। आप जानते हैं, लाभ भाव में गोचर कर रहे हैं। अब लाभ भाव में शनि देव को सर्वाधिक समय आ गया है तो इसका मतलब था कि कोई बहुत विशेष में बदलाव नहीं आने वाला है।

विलंब को फोन करके बुलाई थी तो उसमें थोड़ा जरूर कहीं ना कहीं बदलाव आएगा। काम आपके थोड़ी होंगे। मीन राशि की जन्मकुंडली को खोलिए चंद्रमा से कोई संबंध नहीं है तो इसका मतलब है। शनि देव कार्यकाल को सपोर्ट करने के लिए आया है। शनिदेव का शुक्र का गोचर काल आपको सपोर्ट करेगा। परेशानियों से बाहर निकालेगा। जरा समझिए को प्रभावित करेंगे तो पिछले घर को अगले भाव को जहां बैठे हैं, उस भाव को इनकी दृष्टि पड़ेगी। लगने पर इनकी दृष्टि पड़ेगी। पंचम पर उनकी दृष्टि पड़ेगी। अष्टम पर इनका प्रभाव होगा। कर्म को प्रभावित करेंगे तो जो लोग नौकरी पेशा है, जिनकी नौकरी चली गई हो। चिंता ना करें क्योंकि लाभ तभी होगा जब आपके पास नौकरी होगी। कुल 3 गए तो नौकरी आ जाएगी। चिंता ना करें। दूसरा जो विदेश में आकर के काम कर रहे थे, उनकी नौकरी गई है। प्यार तो आप फिर विदेश में रह जाएं। विदेश में रहते रहते पुनः नौकरी आपको मिल जाए। विदेश से पुनः मौका आ जाए जो लोग विदेश जाने की तैयारी में थे। लॉक डाउन हो गया नहीं जा पा रहे थे। अब जा सकते हैं।

प्रकृति बदलने पर स्थित आपसे कह रहा हूं कि मुझे भरोसा है कि अब परिस्थितियां बदलने वाली है। विशेषकर के देव गुरु बृहस्पति के वक्री होने के बाद तो वहां पर आप जाकर क्या को सपोर्ट मिलेगा, लेकिन मुझे नहीं लगता है कि ज्यादातर लोग विदेश जाना पसंद करेंगे तो सीधी सी बात है। यदि पता करके आप कुछ नया करेंगे पर आप को अपने कंट्रोल रखना होगा। सोच समझ कर करना होगा। अभी अभिजीत महामारी को आप देख रहे हैं। उस ने बहुत कुछ सिखाया है। दिन दुनिया देखना सिखा दिया। लोगों ने जाना हमारी जिंदगी बड़ी छपरा निकल जाते होगा। अपने पे मत करिए। अपना भेजो है। अपने आप को बनाने के लिए समाज को सही दिशा देने के लिए लोगों की मदद के लिए करिए। कम से कम नाम तो होगा ही और अगर आप धर्म को मानते हैं तो इस श्लोक के साथ पर लोग भी बनेगा। प्रभारी करेंगे। कर्म भाव को तो नौकरी को लेकर चिंता मत करी का नौकरी जाएगी तो दूसरी नौकरी आ जाएगा। खुद का काम कर लेंगे। चिंता करने की आवश्यकता नहीं।

हेलो कि मन आपका थोड़ा शांत होगा जो पहले से ही चला रहा है कि बारे में ढीले होना और हर कार्य बाधित हो करके फिर भी काम बनेंगे और इस चिंता से आप मुझे शाम को लेकर चिंता के कारण चिंतित उसमें कहीं कमी आएगी। रास्ते खुलेंगे आए थे और इससे भी आपको लाभ मिलेगा। पड़ेगी लाभ की संभावना, लॉटरी सट्टा जुआ ज्यादातर लोग क्या करेंगे। इसको सरकार के इस समय के दौरान कि अब उनको लगेगा कि कहां से आकस्मिक पैसा आ जाए तो ज्यादातर लोग इस समय लॉटरी शादी में जाएंगे, जहां लोकप्रिय होती हैं और फिर अपनी पसंद नहीं है तो इन चीजों में पैसा बर्बाद करेगा बल्कि उसकी जगह अपने कर्म पर भरोसा करेगा। मेहनत पर भरोसा करिएगा। व्यापारी करते हैं तो ससुराल इत्यादि से सहयोग मिल जाए या आप नौकरी पेशा नहीं है। बेरोजगार हो चुके हैं तो ससुराल से।

और सितारे बन जाएंगे और फिर आपके लिए मैं कहता हूं कि यहां पर आपको थोड़ी राहत मिली, लेकिन इनका बुक अकाल आप को सपोर्ट करने के लिए आया है। आप को सहयोग देने के लिए आया तो सपोर्ट मिलेगा। मिलेगा फायदा मिलेगा। चिंता मत करिए। विलंब से ही सही काम सारे बनेंगे। हनुमान जी की शरण में रहेगा। हनुमान जी की आराधना करते रहिएगा। हनुमान जी के मंदिर में रखिएगा करते रहिएगा। परेशानियों से वही बताएंगे। कपड़े पर तो कोई यह था? तुला से लेकर के परिजन इस राशि के जातकों के लिए वक्री शनि का गोचर प्रभाव यानी इस हिसाब से देखें तो मैं उसे लेकर जमीन पर्यंत 12 राशियों के लिए हमने शनि किस प्रकार के बूचड़ प्रभाव को जाना आज भी उतना ही मुलाकात होगी। 

Author: admin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *